चुपचाप चल रहे थे

चुपचाप चल रहे थे.. हम अपनी मंजिल की तरफ..
.
.
.
.
.
.
फिर रस्ते में एक लौंडियाँ मिली .. और
मंजिल की माँ चुद गयी ।
👇🏻👇🏻👇🏻👇🏻👇🏻👇🏻👇🏻👇🏻👇🏻